शुक्रवार, 24 जून 2016

बीहड़ पर किताब लिखने के रुपरेखा मैने लगभग दस साल पहले तय की थी। मूर्खता में मैने अपने ब्लाग पर इसकी रुपरेखा भी डाल दी। अब देख रहा हूं जैसा कि एक महीने में मुझसे तीन लोग संपर्क कर चुके हैं सभी इस रुपरेखा पर ही किताब लिखने की तैयारी कर रहे हैं। मैं सोच रहा हूं क्यों न मैं अपना कार्यक्रम स्थगित ही कर दूं। भाई लोग हैं तो लिखने के लिए। किसी ने भी लिखा जानकारी तो लोगों तक पहुेच ही जाएंगी। मैं ही लिखूं ये जरूरी तो नहीं

बुधवार, 1 जून 2016

बीहड़: बीहड़ में शाह की साइकिल

बीहड़: बीहड़ में शाह की साइकिल

बीहड़ में शाह की साइकिल

बीहड़ को दिल में संजोए वह बस्ती से आया है। जिस जमीन से उसका कोई नाता नहीं उसे वह अपनी कर्मभूमि बनाना चाहता है। फकीरों की सादगी लेकिन नाम शाह आलम। चंबल और उसकी सहायक नदियों के कई किलोमीटर में फैले बीहड़़ी जीवन के लिए वह कुछ करना चाहते हैं। नेताओं सा करना नहीं, बल्कि ऐसा करना जिसका वह कोई वायदा नहीं करते हैं लेकिन जानते हैं कि स्वाभिमान की इस भूमि के बारे में ऐसा कोई लिखित दस्तावेजी साक्ष्य नहीं जिसे शोध में संदर्भ के तौर पर इस्तेमाल किया जा सके।
जामिया मिलिया से एमफिल बीहड़ के महत्व को समझते हैं और समझते हैं यहां के बांकेपन को। यही कारण है कि शाह की साइकिल इन दिनों बीहड़ की पगड़ंडियों पर दौड़ रही है। शाह इन दिनों बीहड़ की यात्रा पर है जिसकी शुरूआत उन्होंने 29 मई को औरैया से की। मातृदेवी संस्था के संस्थापक और आजादी की अलख जगाने वाले पंडित गेंदा लाल दीक्षित की मूर्ति पर औरैया में माल्यार्पण कर अभियान की शुरुआत की गई।
यह भी गजब बात है कि जिस पंडित गेंदालाल दीक्षित के नाम पर औरैया की जनता अपने को क्रांतिकारियों की भूमि का प्रतिनिधि कहती है उन दीक्षित जी की क्रांतिकारी संस्था मातृदेवी का शताब्दी वर्ष है यह याद दिलाने के लिए शाह आलम को बस्ती से आना पड़ता है।
आलम के दिमाग में बीहड़ को लेकर बहुत कुछ चल रहा है। इस मुद्दे पर मेरी उनसे विस्तार से बात हुई। शाह इसके लिए मुझसे मिलने विशेष तौर पर आए। दरअसल शाह जिन मुद्दों पर काम करना चाहते हैं उन मुद्दों पर पिछले एक दशक से में काम कर ही रहा हूं। अब मुझे शाह के तौर पर एक साथी मिल गया है। काम तेजी से बढ़ेगा एेसी उम्मीद है। ------

बुधवार, 30 अप्रैल 2014

पूर्व दस्यू रेनू यादव का नया अवतार

चंबल-यमुना के बीहड़ में समय गुजारने वाली और कभी किसी की परवाह नहीं करने वालीं रेनू यादव अब गौरक्षा दल से जुड़ गई हैं। उन्हें इस दल में महिला प्रकोष्ठ का महासचिव बनाया गया है। वह कहती हैं कि अब वह गरीबों, वंचितों और अशिक्षितों की लड़ाई लड़ेंगी। रेनू तो यहां तक कहती हैं कि वह तो आईएएस बनना चाहती थीं, बदमाशों ने उन्हें डकैत बना दिया। 14 साल की आयु में उनका अपहरण कर लिया गया.

रविवार, 21 अप्रैल 2013

बीहड़ में फिर धूलिया

बीहड़ में फिर धूलिया
तिग्मांशु धूलिया एक बार फिर बीहड़ में उतर गए हैं। तिग्मांशु यानी वही पान सिहं तोमर वाले। राष्ट्रीय पुरस्कार से उत्हासित धूलिया बीहड़ की कथावस्तु लेकर एक और फिल्म बना रहे हैं। बुलेट राजा नाम की इस फिल्म की शूटिंग के लिए वह बीते दिन इटावा के चकरनगर इलाके में थे। बहुंत मन था तिग्मांशु से मिलने का, लेकिन व्यस्तता के कारण ऐसा नहीं हो सका। तिग्मांशु ने पहले पान सिंह तोमर और अब बुलेट राजा पर फिल्म बनाकर बीहड़ के दो कालखंडों को छू लिया। पानसिंह तोमर (1970-1990) के बीच में बीहड़ के मिजाज, वहां के हालात की कहानी है तो बुलेट राजा देश में खुली अर्थव्यवस्था आने के साथ फैले बाजारवाद के बाद बीहड़ में घुसते अपहरण उद्योंग के बाजार की कहानी है।  इस तरह मैने अपने अध्ययन में बीहड़ को जिन तीन कालखंडों बागी(1920-1950), डकैत (1950-1980), दस्यु या लुटेरे (1980-अब तक) में बांटा है उसमें तिग्मांशु अंतिम दो कालखंड को सिल्वर स्क्रीन पर उतार चुके हैं। मैरी हार्दिक इच्छा थी कि तिग्मांशु से मिलता और उनसे बागी सन्यासी पर फिल्म बनाने का सुझाव देता। मगर ऐसा हो नहीं सका। आगे फिर कभी मौका मिले....

मंगलवार, 19 मार्च 2013

पान सिंह के हिस्से सिर्फ पदक ही आए

बागी होने से दो साल पहले पान सिंह द्वारा गांव में बनवाया गया मंदिर।

आज भी ऐसी हैं भिडौसा गांव की गलियां

भिडौसा स्थित पान सिंह तोमर का घर

पान सिंह तोमर फिल्म को राष्ट्रीय पुरस्कार मिलने की घर सुन गांव में इकट्ठे हुए लोग।

पान सिंह के बहाने बीहड़ एक बार फिर चर्चा में है। बाधा दौड़ के सात बार राष्ट्रीय चैंपियन रहे पान सिंह के जीवन पर बनी तिग्मांशू धूलिया की फिल्म ‘पान सिंह तोमर’को इस बार सर्वश्रेष्ठ राष्ट्रीय फिल्म का पुरस्कार मिला है और इस फिल्म में पान सिंह की •ाूमिका नि•ााने वाले इरफान खान को सर्वश्रेष्ठ अ•िानेता चुना गया है। फौजी से डकैत बने इस शख्स की कहानी है ही इतनी स्तब्ध कर देने वाली। बीहड़ को न समझने वालों के लिए यह विस्मय से •ारा जीवन है तो बीहड़ वालों के लिए ‘बागी’ होने की सच्चाई। चंबल के बीहड़ जिन डकैतों के लिए मशहूर हैं उसी चंबल का इलाका अपने जाबाज फौजियों के लिए •ाी जाना जाता है। मध्यप्रदेश के मुरैना जिले के क्वारी नदी के बीहड़ में बसे अति पिछड़े गांव •िाड़ौसा में जन्में पान सिंह का जीवन मनुष्य के आत्मसम्मान और उसके गौरव से जीने की कहानी है। फौज में •ार्ती होने से पहले पान सिंह की काबिलियत को न तो गांव वाले जानते थे और न स्वयं पानसिंह। 1950 और 1960 में बाधा दौड़ के चैंपियन बनने और 1958 में एशियन खेलों में हिस्से लेने तक •ाी उनकी ख्याति और कहानी ऐसी नहीं थी कि उस पर फिल्म बन सके। बीहड़ को •ाुनाने और उसे पर्दे पर उतारने वालों के लिए बीहड़ सदा से ही दिलचस्प विषय रहा है। मगर अगर पान सिंह डकैत न होते तो शायद ही राष्ट्रीय स्तर पर उनकी सफलता या काबिलियत के कोई मायने होते।
हालांकि, पानसिंह जिन परिस्थितियों में डकैत बने वह बीहड़ के लिए कोई अनोखी बात नहीं थी। 70 के दशक तक इस इलाके में डकैत को ‘बागी’ कहने का ही चलन था। यानी वह शख्स जो व्यवस्था से परेशान होकर उसका विरोध करता है। इस दशक में बीहड़ में कई और नामी डकैत मलखान सिंह, मोहर सिंह, माखन सिंह, माधो सिंह •ाी थे और इनके डकैत बनने के पीछे •ाी कमोबेश वही कारण थे जिन्होंने पान सिंह को डकैत बनने के लिए मजबूर किया। पान सिंह को बागी कहें या डकैत इस परंपरा से अगर कोई चीज उन्हें अलग करती है तो वह है मनुष्यता के लिए उनका लगातार संघर्ष। साथ ही राष्ट्रीय स्तर पर उनकी वह उपलब्धियां जो शायद किसी अन्य डकैत में नहीं थी। हालांकि घनश्याम बाबा पान सिंह से कहीं अधिक पढ़े लिखे थे तो मान सिंह ने अधिक कष्ट उठाए थे। माखन और मलखान सिंह को पान सिंह से अधिक अपमानित होना पड़ा था और मुरैना इलाके में मशहूर डकैत घनश्याम अधिक चमत्कारिक। घनश्याम डकैत खड़े ऊंट पर बिना किसी के सहारे चढ़ जाते थे और उस समय जिन इलाकों में उन्होंने डकैती डाली वह जानते हैं कि वह क•ाी जमीन न पर चलकर मकान से मकान ही चलते थे। फुर्तीले इतने गजब के कि अगर उन्हें मौका मिला होता तो वह बांसकूद या ऊंची कूद के राष्ट्रीय चैंपियन तो अवश्य ही होते। पानसिंह ने डकैत बनने के बाद •ाी क•ाी कोई जघन्य कांड नहीं किया। यहां तक कि अपने •ातीजे बलवंत को •ाी उसने आठ गुर्जरों को मारने से रोका था।
डकैतों के जीवन पर पहली बार कोई फिल्म नहीं बनी है। इससे पहले पुतली बाई और मोहर सिंह-माधो सिंह के जीवन को लेकर •ाी फिल्म बनाई जा चुकी हैं, लेकिन जो शोहरत और सफलता पान सिंह तोमर की फिल्म को मिली वह दरअसल पानसिंह के जीवन और उनके संघर्ष की सफलता है। हां, बीहड़ पर फिल्म बनाकर •ाले ही तिग्मांशू धूलिया ने पानसिंह के जीवन को चर्चा में ला दिया हो लेकिन न तो इससे बीहड़ का कुछ •ाला होने वाला है और न ही पान सिंह के उस परिवार का जो आज •ाी बेहतर स्थिति में नहीं है। पान सिंह के पुत्र ने तो तिग्मांशू पर कुछ आरोप •ाी लगाए थे और उनकी विधवा पत्नी झांसी में सामान्य सा जीवन गुजारती है। पान सिंह का गांव •िाडौसा आज •ाी उतना ही उजड्ड और पिछड़ा हुआ है। आखिर पान सिंह और उसके गांव को ‘पदक’के सिवा मिला ही क्या है। हालांकि तिग्मांशू की यह फिल्म इस क्षेत्र के जीवन और उसकी कठिनाई को अधिक वास्तवित तौर पर पर्दे पर उतारने में सफल रही है। जैसा कि पत्रकारिता में शोध कार्य कर रहे और ग्वालियर के पत्रकार •ाुवनेश तोमर कहते हैं कि इस फिल्म ने पान सिंह के संघर्ष और इस इलाके की कठिनाई को नए तरीके से सबसे सामने रखा है। यह फिल्म इस इलाके की बदनामी करती हुई नहीं लगती बल्कि एक बार फिर सोचने को मजबूर कतकी है कि यहां हालात ऐसे क्यों हैं।

सोमवार, 4 फ़रवरी 2013

दस्यु रमेश सिकरवार का सरेंडर


 दो किसानों की हत्या करने के बाद एक साल से फरार चल रहे पूर्व दस्यु रमेश सिकरवार ने मध्यप्रदेश के श्योपुर जिला कलक्टर के सामने समर्पण कर दिया है। अपने फरारी के दिन जंगल के अलावा भोपाल के गांधी आश्रम में भी बिताए। यहीं उसकी मुलाकात एकता परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजगोपाल पीवी से हुई। राजगोपाल ने ही उसे सरेंडर करने का सुझाव दिया। उसके बाद सोमवार को रमेश ने श्योपुर एसपी डॉ. एमएस सिकरवार के सामने सरेंडर कर दिया। एक साल पूर्व दस्यु रमेश सिकरवार का जमीन को लेकर कैमारा गांव के किसान काशीराम और कल्ला रावत से झगड़ा हुआ था। विवाद से गुस्साए रमेश ने दोनों किसानों की गोली मारकर हत्या कर दी और फरार हो गया। कुछ महीने कराहल के जंगल में रहने के बाद रमेश राजस्थान व उत्तरप्रदेश में अपने रिश्ते-नातेदारों के यहां चला गया था। इधर-उधर भटकने से परेशान होकर करीब दस महीने पहले वह भोपाल पहुंचा और वहां गांधी आश्रम में रहने लगा। यहीं उसकी मुलाकात राजगोपाल पीवी और एकता परिषद के अन्य पदाधिकारियों से हुई। गांधी आश्रम में ही रमेश सिकरवार ने सरेंडर करने की बात श्री राजगोपाल के समक्ष रखी थी।